न्यूज़ और गॉसिप

मैंने नहीं प्रत्यूषा के माता-पिता के लालच ने उसे मारा है: राहुल राज सिंह

0
बालिका वधू
बालिका वधू

बालिका वधू फेम टेलीविजन अभिनेत्री प्रत्यूषा बनर्जी की दुखद आत्महत्या के पांच साल बाद उनके प्रेमी रहे मॉडल, अभिनेता और शो के आयोजक राहुल राज सिंह अभी भी उस केस के बंद होने की प्रतीक्षा कर रहे हैं, जिसमें उन पर आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाया गया है।

राहुल का कहना है, “कोविड महामारी ने मामले को जितना लंबा होना चाहिए था, उससे कहीं अधिक लंबा कर दिया है। मैं उस दिन का इंतजार कर रहा हूं, जब कोर्ट मेरे नाम को क्लियर करेगा। मुझे पता है कि मैं दोषी नहीं हूं। मैंने प्रत्यूषा को नहीं मारा, उसके माता-पिता के लालच ने उसे मार डाला। वह उनकी अंतहीन मांगों को पूरा करने में असमर्थ थी। मैंने उसे बचाने की कोशिश की, मारने की नहीं, ”राहुल राज भावनात्मक रूप से कहते हैं, 27 मार्च, 2016 की यादें आज भी उन्हें सताती हैं।
उन्होंने उन्हें प्रत्यूषा की मौत के लिए जिम्मेदार ठहरा रहे एक्ट्रेस के दोस्त काम्या पंजाबी और विकास गुप्ता पर भी निशाना साधा है और कहा कि वे उनके खिलाफ मानहानि का केस करेंगे।

मैं उस दिन को कभी नहीं भूल सकता। वह दिन मेरे दिल और आत्मा में अब भी है। जिस तरह से प्रत्यूषा के तथाकथित दोस्तों विकास गुप्ता और काम्या पंजाबी ने मुझ पर प्रत्यूषा की मौत का आरोप लगाने की कोशिश की…उनके पास उनकी अंतरात्मा है और उन्हें भगवान को इसका जवाब देना होगा। वे जानते हैं कि मैं दोषी नहीं हूं। वे यह भी जानते हैं कि उन्होंने सारा तमाशा क्यों किया।

क्यों?

सिर्फ पब्लिसिटी के लिए। उन्होंने बिना किसी सबूत के मुझे बदनाम किया। प्रत्यूषा ने मुझे आखिरी फोन किया था, इससे यह साबित नहीं होता है कि मैं दोषी हूं। प्रत्यूषा ने किसी से भी बातचीत में एक बार भी मुझे दोषी नहीं ठहराया है। वह उसके माता-पिता से ही दुःखी और नाराज थी। उन्हें प्रत्यूषा की मौत का जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए। दरअसल, जब माननीय जज ने मुझे जमानत दी थी तो यह प्रत्यूषा और मेरे बीच आखिरी बार फोन पर हुई बातचीत के आधार पर ही थी,

प्रत्यूषा के मामले में क्लीनचिट मिलते ही वे विकास गुप्ता और काम्या पंजाबी पर आपराधिक मानहानि का मुकदमा दर्ज करवाएंगे। उन्होंने मेरे जीवन और करियर को नुकसान पहुंचाया है। कोई भी जवाबी कार्रवाई मुझे मेरे खोए हुए पांच साल वापस नहीं दिला सकती। चूंकि मुझे प्रत्यूषा की मौत के लिए जिम्मेदार ठहराया गया था इसलिए मेरा सारा काम प्रभावित हुआ। प्रत्यूषा की मौत से पहले जो कुछ भी मैंने हासिल किया था, वह सब भुला दिया गया है। मेरा जीवन रुक गया है। मैं इन दोनों पर आपराधिक मानहानि का मुकदमा करूंगा और मुआवजे के रूप में 1 रुपए का दावा करूंगा।

राहुल राज का कहना है कि वे विकास गुप्ता के प्रत्यूषा के साथ संबंधों को साझा करने के दावों से दुखी हैं। “एक मरे हुए इंसान को इस्तेमाल कर रहे हैं। इससे पता चलता है कि वे कितना नीचे गिर सकते हैं? प्रत्यूषा की मौत के पांच साल बाद अचानक उसके साथ रिश्ता कहां से आ गया। एक रिश्ता, जो उसके साथ कभी नहीं था। वह इसलिए ऐसा कह रहा है क्योंकि प्रत्यूषा उसके दावे का खंडन करने के लिए नहीं है। विकास को शर्म आनी चाहिए। पब्लिसिटी के लिए किसी मृत लड़की के नाम का इस्तेमाल करना, बहुत ही गलत है।”

राहुल ने खुलासा किया कि प्रत्यूषा के माता-पिता की आर्थिक स्थिति दयनीय है। “वे मुंबई में जर्जर क्वार्टर में रह रहे हैं। उनका सुनहरा हंस अब नहीं रहा। वे अपने गृहनगर जमशेदपुर भी वापस नहीं जा सकते क्योंकि वहां हर कोई जानता है कि उन्होंने अपनी बेटी का शोषण कैसे किया।

विश्व संगीत दिवस पर विशेष: स्वर कोकिला लता मंगेशकर द्वारा महत्वाकांक्षी संगीतकारों के लिए सुझाव

Previous article

दोबारा अलविदा: अ डेड गिव अवे

Next article

You may also like

Comments

Leave a reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *